Author
jseema26

उम्मीदें

चित्रा रसोई में खाना बना रही थी लेकिन ध्यान सामने वाले फ्लैट पर था। बहुमंजिला इमारत थी,हर मंजिल पर चार फ्लैट थे, कोरिडोर [...]

धोखा

भूमि रसोई में काम करती जा रही थी और भुनभुनाती जा रही थी। वरूण ने हद कर दी चार पांच घंटे पहले बता [...]

खालीपन

शशांक को हैदराबाद में नौकरी करते छः महीने हो गए थे, वसुंधरा रोज़ उससे रात को एक सवा घंटे फोन पर बात करती,तब [...]

शिकायत पेटी

शालिनी बड़बड़ाती हुई शयनकक्ष में दाखिल हुई,” आज फिर महारानी ज्वालामुखी बनी घूम रहीं हैं,जरा सा काम करती है अहसान तोड़ती है।” पत्नी [...]

विश्वास

ईशा आफिस में अपनी टेबल पर बैठी काम कर रही थी तभी उसकी नज़र सामने से आते अपने मंगेतर समर पर पड़ी। उसके [...]

बहू रानी

सावित्री रोज़ का सौदा लेने बाजार  गयी तो सदानंद को परेशान खड़ा देखा , सब्जी वाले के पास। उसको देखते ही वो बोला, [...]

कुदरत का पंच

द्वारकानाथ ने सबसे छोटी पुत्री चैताली के लिए वर खोजने में कोई कसर नहीं छोड़ी,प्रत्येक प्रत्याशी में कोई न कोई कमी नजर आ [...]